Ultra HD Business Idea: यह बिजनेस कोई नहीं कर रहा। आज ही शुरू करे और कमाई का धागा खोल देगा।

Ultra HD Business Idea

Ultra HD Business Idea


जैसे-जैसे लोगों की फैशन के प्रति समझ बढ़ती जा रही है वैसे-वैसे तरह-तरह के कपड़ों की मांग भी बढ़ती जा रही और जैसे जैसे कपड़ों की मांग बढ़ रही है धागों की मांग भी बढ़ती जा रही है क्योंकि बिना धागों के कपड़ा बनाना इंपॉसिबल है इसलिए आज हम एक ऐसे बिजनेस के बारे में बात करने जा रहे हैं जो आप घर बैठे शुरू कर सकते हैं और वह बिजनेस है धागा मेकिंग बिजनेस तो आईए जानते हैं धागा मेकिंग बिजनेस से संबंधित कुछ जानकारी।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

2 महीने में गरीबी दूर करने के लिए शुरू करें यह बिजनेस छप्पर फाड़ कमाई की गारंटी जल्दी शुरू करें

क्या काम आता है धागा


कोई भी कपड़ा बनाने से पहले हमें धागे की जरूरत पड़ती है। बिना धागे के कोई भी कपड़ा या कपड़े पर डिजाइन नहीं बन सकती। कपड़ा जब बनाया जाता है तो उसमें बहुत सारे धागे एक साथ मिलकर कपड़े का निर्माण करते हैं। जिस रंग का धागा होता है इस लंका में कपड़ा प्राप्त होता है या यूं कहें कि हमें जिस रंग का कपड़ा प्राप्त करना है इस रंग के धागे की आवश्यकता होती है।

कैसे बनता है धागा


धागा हम अलग-अलग प्रकार के बना सकते हैं जैसे की कपास का, रेशम का ,प्लास्टिक का , नायलॉन का इत्यादि प्रकार के बनाए जा सकते हैं।
धागा बनाने के लिए हमे इनमे से कोई जिस भी चीज का धागा बनाना चाहते हैं उस प्रकार का कच्चा माल चाहिए होता हैं। वैसे अगर हम धागे को बांटे तो धागा प्लांट , एनिमल और सिंथेटिक तीन प्रकार का ही हो सकता हैं।

कैसे शुरू करे बिजनेस से पहले की आवश्यकता


बिजनेस शुरू करने से पहले आपको अपने बिजनेस की कुछ आवश्यक जानकारी लेनी होगी या प्लानिंग करनी होगी की आप कैसे अपने बिजनेस को चलाएंगे जैसे की सबसे पहले तो आपको ये सोचना होगा की आप कौनसे प्रकार का धागा बनाना चाहते है। फिर उस प्रकार के धागे का कच्चा माल आप कहा से लेंगे। प्लांट आप घर पर ही रखेंगे या कहीं और लगाएंगे ।अगर कहीं और लगाते है तो वो जमीन आपको सोचनी होगी। इस तरह की कुछ प्लानिंग आपको करनी होगी बिजनेस शुरू करने से पहले ही। आप कितना निवेश करना चाहते है।

धागा बनाने की प्रोसेस


हम यहां सिल्क से धागा कैसे बनाया जाता हैं उसके बारे में बात करेंगे आप कौनसे प्रकार का बनाते है। ये आपके ऊपर है वैसे ज्यादातर धागे इन्हीं प्रोसेस से बनाएं जाते हैं।

  1. अगर आप सिल्क वॉर्म सीधे खरीदते है तो आपको उनमें से सिल्क निकालनी पड़ेगी । उसके लिए आपका ज्यादा पैसे खर्च होगा।
  2. तो आप सीधे ही सिल्क थ्रेड ही खरीदें।
  3. डाईंग – आपको जिस भी कलर का धागा बनाना है सिल्क को उसी कलर की डाई में भिगोकर सूखने के लिए छोड़ दें।
  4. स्पिनिंग – जब डाई किया हुआ सिल्क सुख जाए तो उसे पुराने जमाने में तो चरखे से गुमाया जाता था लेकिन आजकल मशीनों से गुमाया जाता है।
  5. वीविंग – यह वह प्रकिया होती है जिसमे धागे को आपस में बुना जाता है इसमें रेशम का अंतिम टुकड़ा साथ आता है। बुनाई अलग अलग प्रकार से की जाती है जैसे की साटन बुनाई, सादा बुनाई और खुली बुनाई आमतौर पर खुली बुनाई ही की जाती है।
    रेशम की फिनिशिंग बुनाई के प्रकार पर ही निर्भर करती हैं।

पैकिंग और मार्केटिंग


इस प्रकार बने हुए धागे को आप जेसे चाहें वैसे पैक कर सकते ही आप इनकी गांठ बांध सकते है, रोल बना सकते है, कोन शेप दे सकते हैं जैसा आपका कस्टमर चाहे वैसा आकार दे सकते है।
मार्केटिंग के लिए आपको कपड़ा मैन्युफैक्चरिंग वालो से संपर्क करना होगा एवम् आप अपने कंपनी का धागा सीधे बाजार में सिलाई मशीन की साइज में पैक करके भी बेच सकते हैं।

कौन कौन सी मशीनें चाहिए

  1. गठरी खोलने या तोड़ने वाली
  2. ब्लोअर
  3. कार्डिंग मशीन
  4. ड्रॉ फ्रेम
  5. रोविंग फ्रेम
  6. रिंग फ्रेम (स्पिनिंग)
  7. वाइंडिंग

इस लेख में हमने जाना की कैसे आप एक धागा मेकिंग बिजनेस सुरु कर सकते है इसमें हमने कुछ ऑटोमेटिक प्लांट के बारे में भी बात की है लेकिन धागा आप चाहे तो बिना मशीन के भी बना सकते है । क्योंकि उसमे निवेश कम लगता है और प्रॉफिट ज्यादा मिलता है। लेकिन आप बड़े स्तर पर काम करना चाहते हैं तो आपको प्लांट के लिए मशीनें ख़रीदनी ही पड़ेगी।

Leave a Comment